Wednesday, 3 January 2018

Republic Day 2018 Speech in Hindi for Teachers and Students

Posted By: Admin
Republic Day 2018 Speech in Hindi for Teachers and StudentsAre you looking for 26 January Republic Day speech in Hindi? Then you are at right place. Here we have provided the Best Speech in Hindi for Republic Day. Most of the schools and colleges perform numerous cultural or events on 26 Jan 2018. As we know that Hindi is our national language in India, most of the educational institutes will focus their speeches in Hindi also. Here we are going to provide you 26 January Speech for School Students, Students, Kids, College Students, Children, Republic Day English Speech for the Kids, Teachers, 26 Jan Indian Republic Day Speech, Speech for Students in Hindi.

26 January Republic Day 2018
26 January Republic Day 2018

26 January Republic Day 2018 Speech in Hindi for Teachers and Students

Many persons give a speech in Hindi on republic day and most of the people dream to speak in Hindi on this day. So for all those type people, we have a good collection of republic day speech in Hindi. We will help you, people who are looking for speech, we have some of most influential words of speech for you in the Hindi font to prepare for your speech.

नमस्कार मैं हूं ....
मैं अपने पूरे देश वासियों को गणतन्त्र दिवस की बधाई देता हूं। साथ ही आने वाले भविष्य की उज्जवल कामना करता हूं

यह तो आप सभी जानते है कि हम हल साल 26 जनवरी के दिन गणतन्त्र दिवस क्यों मनाते है। क्योंकि इस दिन हमारे देश में पूर्ण रूप से आजाद हुआ था। आज हमारे देश को आजाद हुए 70 साल और सविंधान लागु हुए 68 साल होने को जा रहा है।

अगर कोई हम से ये पूछे कि गणतन्त्र दिवस का मतलब क्यो होता है तो कम ही लोग इसका जवाब दे पायेंगे, लेकिन हम आपकों इसका मतलब क्या होता है तो कम ही लोग इसका जवाब दे पायेंगे। लेकिन हम आपकों इसका मतलब सरल शब्दों में समझाने की कोशिश करते है।


गणतंत्र का अर्थ है कि देश में रहने वाले हर एक इंसान के पास सर्वोच्च शाक्ति यानि की सबसे बड़ी शाक्ति होती है जो अपने देश के लिए सही दिशा में देश का विकास करने वाला राजनितिक नेता चुनने का अधिकार है।जो जनता के सुख- दुख को समझते हुए देश की कमान संभाल सके। इसलिए भारत एक गणतंत्र देश है। यहां की जनता ने अपना नेता प्रधानमंत्री के रूप में चुना है। स्वतंत्रता के ढाई वर्ष के बाद भारत सरकार ने स्वयं का संविधान लागु किया और भारत को एक प्रजातांत्रिक गणतंत्र घोषित किया। लगभग 2 वर्ष, 11 महीने और 18 दिन के बाद 26 जनवरी 1950 को भारत के संविधान को भारत की संविधान सभा में पास किया गया। इस घोषणा के बाद से इस दिन को प्रतिवर्ष भारतीय लोग गणतंत्र दिवस के रूप में मनाने लगे।

एक और खास बात यह है कि भारत देश में पूर्ण स्वराज्य हमें इतनी आसानी से प्राप्त नही हुआ है।  इस आजादी के लिए हमारे देश के कई बड़े सेनानियो नें अपने प्राणों की आहुति दी है। तो कईयों ने अपनी जिंदगी में घोर कष्टों का सामना किया। और उन महान वीरों ने इतना संर्घष इसलिए किया है ताकि उनकी आगे की आने वाली पीढ़ी अपनी जिंदगी सुखी से व्यतीत कर सके। और देश को एक उज्जवल भविष्य प्रदान कर सके।


जिन भारत के वीरों ने हमें अग्रेजों के अत्याचारों से मुक्ति दिलाई है उनके सर्मपण को सदियों तक नही भुलाया जा सकता है। देश के इन वीरों में से कुछ महान नेता और स्वतंत्रता सेनानी हुए। इनमें महात्मा गांधी, भगतसिंह, चन्द्रशेखर आजाद ,लाला लाज पतराय, सरदार वल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री आदि हैं। भारत को एक आजाद देश बनाने के लिए इन लोगों ने अपना सर्वस्य न्यौछावर करते हुए अग्रेंजों के खिलाफ लड़ाई लडी। और इनके सर्मपण को भुल से भी नही भुलाया जा सकता है। हम सभी को इन महान लोगों को सलामी देनी चाहिए। हमेशा ये बात याद रखनी चाहिए, कि हम आज इन्हीं लोगों की वजह से हम आजाद घूम रहे है, अपने दिमाग से सोच रहे है, बिना किसी दबाव के हम देश में मुक्त होकर रह सकते है।.
इस सविंधान को डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने लिखा था। जो विश्व का सबसे लम्बा लिखित सविंधान है। हमारे सविंधान में देश के प्रत्येक लोगो को अपने अधिकार दिए गये है। जिनकी सहायता से प्रत्येक व्यक्ति पूरी स्वतंत्रता के साथ अपना जीवन जी सकता है।लेकिन फिर भी आज ये शर्म से कहना पड़ रहा है कि कुछ लोगों के पास सारे अधिकार होते हुए भी उन अधिकारों से जीवन निर्वहन करने का अधिकार नही है। देश में अभी भी अपराध, भष्टाचार और हिंसा, आंतकवाद ,आदि के गुलाम हो रहे है। भले ही इनसे लड़ने की कोशिश जारी है लेकिन अभी भी सफलता से कोसो दूर है। पूरे देशवासियों को फिर से ऐसी गुलामी से देश को बचाने के लिए एक जुट होना होगा।

धन्यवाद
जय हिन्द, जय भारत






मेरी आदरणीय प्रधानाध्यापक मैडम,  मेरे आदरणीय सर और मैडम और मेरे सभी सहपाठियों को सुबह का नमस्कार। हमारे गणतंत्र दिवस पर कुछ बोलने के लिये ऐसा एक महान अवसर देने के लिये मैं आपको धन्यवाद देना चाहूंगा। मेरा नाम.....है।

आज, हमारे राष्ट्र के 66वें गणतंत्र दिवस को मनाने के लिये हम सभी यहाँ पर एकत्रित हुए हैं। हम सभी के लिये ये एक महान और शुभ अवसर है। हमें एक- दूसरे को बधाई देना चाहिये और अपने राष्ट्र के विकास और समृद्धि के लिये भगवान से दुआ करनी चाहिये। हर साल 26 जनवरी को भारत में हम गणतंत्र दिवस मनाते हैं। हम लोग 1950 से ही लगातार भारत का गणतंत्र दिवस मना रहें हैं क्योंकि 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था।

भारत एक लोकतांत्रिक देश है। लोक तांत्रिक का मतलब सरल शब्दो में कहे तो ........जनता का तंत्र..... जहां देश के नेतृत्व के लिये अपने नेता को चुनने के लिये जनता को अधिकार है। डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति थे।1947 में ब्रिटिश शासन से जब से हम ने स्वतंत्रता प्राप्त की है,  तब से हमारे देश ने बहुत विकास किया है। और ताकतवर देशों में गिना जाने लगा है। विकास के साथ साथ देश  में कई प्रकार बड़ी समस्याएं भी सामने आई है जो देश के लिए और लोगों के जीवन के लिए बेहद ही घातक बनती जा रही है। और अगर इन समस्याओं पर ध्यान दे तो वो हमे सुनने में बेहद ही आसान सी लगेगी कि, क्योंकि आए दिन हम हमारे आस पास इन समस्याओं को सुनते रहते है। ये समस्या असमानता, गरीबी , बेरोजगारी, भष्ट्राचार, अशिक्षा आदि है। ये समस्याएं हमारे लिए और आने वाली पीढी के लिए दिन-प्रतिदिन बेहद ही घातक बनती जा रही है। एक तरह से अगर ये कहे कि ये सभी समस्याए हमारे देश को दीमक की तरह धीरे-धीरे खोखला बना रहीहै। जो नजर तो आ रही है, पर उसका हल नही निकाला जा रहा।  लेकिन देश के हर एक इंसान को अपने हिसाब और तरीके से अपने देश को विश्व का एक बेहतरीन देश बनाने के लिए और समाज में ऐसी समस्याओं को सुलझाने के लिए प्रतिज्ञा लेनी पडेगी। 

डॉ. अब्दुल कलाम ने कहा है कि“ अगर एक देश भ्रष्ट्राचार मुक्त होता है और सुंदर मस्तिष्क का एक राष्ट्र बनता है, मैं दृढ़ता से महसूस करता हूं कि तीन प्रधान सदस्य हैं जो अंतर पैदा कर सकते हैं। वो पिता,  माता और एक गुरु हैं”। भारत के एक नागरिक के रुप में हमें इसके बारे में गंभीरता से सोचना चाहिये और अपने देश को आगे बढ़ाने के लिये सभी मुमकिन प्रयास करना चाहिये।
तो हम सभी को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की कही हुई बातों पर ध्यान करते हुए देश को सही दिशा में ले जाना चाहिए।

धन्यवाद

जय हिन्द,जय भारत

Republic day is celebrated on the honor of our constitution came into effect on 26 January 1950. The constitution was adopted earlier on 26 Jan 1949 but after three months of adoption in January, it came into effect. Republic Day is celebrated every year as a sign of our constitution get into existence. Republic Day symbolizes the struggle of freedom fighters of India. On the same day in 1930, the people who fought for India's independence had pledged that along the river Ravi in Lahore to get the complete independence of India (Full Swaraj) which came true on August 15, 1947.

On 26 Jan 1950, our nation declares as a democratic republic, which means no other country in the world has the power to rule in our country. Since then every year president of India will hoist the flag, as well as parades and celebrations, take place at Rajpath of Delhi as a salute to the constitution of India.

26 January Speech in Hindi for School

Speech On Republic Day in Hindi Paper

26 January Speech in Hindi for Teacher

Short Poem on Republic Day in Hindi


हम नन्हे मुन्हे बच्चे है
देश के सच्चे रखवाले है
हम है धर्मवीर हम है कर्मवीर
ये है भारत हम इसके भारतवासी
हम इस देेश के योद्धा है
अहिंसा के हम पुजारी है
हम में है साहस हम है हिम्मत वाले
हर आफत से है टकराने वाले
हम तुफानो से लड़ते है
देश के दुश्मन को मार भागते है
झंडे लहराते हम हिमालय पर्वत पर
देख तिरंगा हम में जोश भर जाता है
सागर की लेहरो जैसा मन मचल जाता है
हम नन्हे मुन्हे बच्चे है
देश के सच्चे रखवाले है ।



तीन रंगो से बना तिरंगा हमारा
लगता है निर्मल गंगा की धारा
इसके आगे सारे भारतवासी शिश झुकाए
अपने प्राणो की बलि हम चढ़ाये
कितने वीर है इस देश के सिपाही
हँस हँस के खाये सीने पे गोली
धर्म जात ना आये इसके आगे
गुण गाते सब इस देश के वासी
प्राणो से भी प्यारा है देश हमारा
ऊँचे ऊँचे पर्वतो का राजा है
नील गगन में दिखे इसकी छाया
तिरंगा है सबके लिए प्यारा ।



Kabhi Sanam Ko Bhi Ajmaa Ke Dekhna
Kabhi Sahido Ko Yaad Kar Ke Dekhna
Hai Kashish Kisme Kitna Har Ek Ko Tu Ajmaa Ke Dekhna
Tu Kabhi Apni Mehboob Ko Ajmaa Ke Dekhna
To Kabhi Tirange Ko Bhi Ajmaa Ke Dekhna
Jo Hai Teri Mohabbat Aaj Usse Kal Tu
Kisi Aur Ke Bahon Me Jhulte Hue Dekhna
To Tirange Ko Abhi Khud Se Lipatte Hue Dekhna
Hai Kashish Kisme Kitna Tu Khud Kabhi Dono Ko Ajmaa Ke Dekhna
Tu Hai Agar Blandiyon Ke Sikhar Pe To Zamana Tera Hai
Aur Jo Khaai Maat Kabhi Zindagi Me To, Khud Ko Zamane Ke Thokdo Me Dekhna
Badi Begairat Hai Yaha Log,Jo Sirf Khushiyo Me Sath Dete Hai
Aur Pade Tanhaai Kabhi To Saaye Bhi Sath Chod Dete Hai.

Republic Day in Hindi Short Essay

Republic Day Speech in Hindi PDF


Essay Speech On Republic Day in Hindi

Hope you people like the 26 January Republic Day 2018 Speech in Hindi for Teachers and Students. If you want, you can download all the speech images as PDF from the below links. With the PDF you can rehearsal your speech on Republic day event any time without accessing the internet.

Download All Republic Day Hindi Speech PDF: CLICK HERE

Don’t forget to share the article with your friends and to whom it is needed. Thank you all, We wish you all Happy Republic Day 2018.

Incoming Searches:- Republic Day Speech in Hindi 2018, 26 January Speech in Hindi for School
Republic Day Speech in Hindi PDF, Speech On Republic Day in Hindi Paper, 26 January Speech in Hindi for Teacher, Republic Day in Hindi Short Essay, Essay Speech On Republic Day in Hindi.

0 comments:

Post a Comment